Shopping Cart
Whats app Us Now
Free: +91-9887917255

AYURVEDIC STONES - आयुर्वेदिक रत्न

KALA VAIKRANT STONE 100 gm - काला वैक्रान्त पत्थर 100 gm

 || जय चक्रधारी ||काला वैक्रान्त पत्थर :-इसे कुवज्र। विक्रांत ,जीर्णवज्रक अदि नामो से भी जाना जाता है।वैक्रान्त अर्थ जो लोहे को विकृत कर दे ,उसे वैक्रान्त कहते है।  अर्थात लोहे पर जिसे रगड़ने से निशान पड़ जाये उसे ही वैक्रान्त कहा गया है।आठवीं शताब्दी के बाद के रसग्रंथो में वैक्रान्त का वर्णन है। वैक्रान्त कई रंगो में पाया जाता है। श्वेत, नीला,कबूतर  के रंग जैसा।आजकल लोग अलग अलग तरह के पाषाणखंड को वैक्रान्त कहते है।वैक्रान्त के गुण एवं लाभ :-यह आयुष , बुद्धिवर्धक,सभी रोगो को नष्ट करने वाला,पाचन ,रसायन ,हिरा भसम जैसा गुणवान, समस्त दोषो को शमन करने वाला।साथ ही में यह पाण्डु,उदर,और जरा नाशक है।भुत,प्रेत,तंत्र,मंत्र,वशीकरण एवं नकारात्मक ऊर्जा से रक्षार्थ घर के कोने में रखने से ये समस्त लाभ देता है। KALA VAIKRANT STONE-It is called as Kuvajra. Vikrant is also known by the name jirnvajrak etc. Vaikrant means stone which deforms iron, is called vaikrant.So the vaikrant is that stone by which when iron is rubbed by vaikrant iron get marks over it. Vakranta is described in the Ras-granth of the later eighth century. Vaikranta is found in many colors White, blue, as pigeon color.Nowadays people call different types of stone blocks as Vaikrant.Properties and benefits of Vaikranta: - This gives Health, intelligency, destroyer of all diseases, helps in digestion,it is compared nearly like diamond Bhasma, extinguishes all defects. It also helps in abdominal disease.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹500 Ex Tax: ₹499

LAPIS LAZULI STONE 100 gm - LAJVART STONE 100 gm -लाजवर्त पत्थर - 100 gm

|| जय चक्रधारी ||लाजवर्त पत्थर:- लीजिये आज फिर से प्रस्तुत है आपके समक्ष एक और खनीज रत्न - लाजवर्त । फिर से जानिये के - क्यों आपके अखंडित भारत पर हरदम आक्रमण होता रहा है - क्युकी आपकी सभ्यता के समान धनवान देश कोई था ही नहीं - जहाँ पर प्रकर्ति पूरी प्रसन्नचित्त योग मुद्रा में बैठी हों - उससे ईर्ष्या कौन नहीं करेगा ?? संसार का श्रेष्ठ लाजवर्त पत्थर भी - अखंडित भारत में - हिन्दू कुश पर्वत के समीप निकलता था, जो आज भी वही हैं - वर्तमान के वह अफ़ग़ानिस्तान में पड़ता है । रत्न लाजवर्त के उपयोग के साक्ष्य वैज्ञानिक खोज अनुसार - १२००० वर्ष पहले तक प्राप्त होते हैं । राजा बलि के केशो से उत्पन्न यह रत्न वास्तव में - कई रत्नो का मिश्रण है । यहाँ तक की इस रत्न में - स्वर्ण भी मिश्रित है । केवल ग्रहदशाओ का ही नहीं वरन यह स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी अत्यंत लाभदायक साबित होता है । शनि, राहु, केतु के दुष्प्रभाव तो समाप्त करता ही है - यह आपके किडनी के रोग भी शांत करता है, मस्से नहीं होने देता, हृदय पुष्ट करता है, रक्त बढ़ाता है, बवासीर पर भी कारगर है । दूसरी बात - इस प्रकार के रत्न काम भी उसी अवस्था में करते हैं - जब आयुर्वेदिक पद्यति अनुसार शोधित हों । एवं कहना ही क्या यदि आप - नारायण मन्त्रों से इसमें और ऊर्जा भर देवें - क्युकी इसमें गुरुत्व - स्वर्ण विराजित हैं । बस शर्त यही है - के पत्थर बिना कोई ट्रीटमेंट के हो, बिना रंग रोगन किया हो, और असली भी हो । आनन्द लीजिये ऐसी सभ्यता में जन्म लेने का - जिसको अध्यन्न कर करके - रेडियो अविष्कारक - निकोला टेस्ला वैज्ञानिक बने, कार्ल सगण - खगोलीय वैज्ञानिक बने, नेल्स हेनरिक - क्वांटम थ्योरी के अविष्कारक बने, रोबर्ट ओप्पेन्हेइमेर - ने तो महाभारत पढ़ कर atom bomb की खोज कर डाली । और आज के भारतीय - इस सभ्यता का अध्यन्न ना करके - स्वयं बैठी हुई डाली को काट रहे हैं । जब तक यह मूर्खता बंद नहीं होगी - आपका देश आगे नहीं बढ़ सकता । lajwart stone:-Today we again talk about another mineral jewel - Lajvart.Talking again - why there has been a continuous attack on your unbroken India - as there was no rich country like our civilization - where the nature is sitting in a perfectly happy yoga posture - who will not envy her?Even the best Lajvart stone of the world found in unbroken India near the Hindu Kush Mountains, present-day situated in Afghanistan.It removes the side effects of Saturn, Rahu and Ketu - it also calms your kidney diseases, does not allow warts, strengthens the heart, increases blood, is also effective on piles. Only real Lajwart gemstone works for these condition - said according to Ayurvedic practice.Narayana mantras, give it more energy. There is the only one condition - that the stones should be without any treatment, without paint, and real.According to scientific discovery - evidence of the use of gemstone Lajavart is found till 12000 years ago.This gem produced from the hair of King Bali is actually a mixture of many jewels.Even gold is mixed in this gem. Not only the planets, but it also proves very beneficial from the health point of view.Enjoy being born in such a civilization - by studying it - radio inventor - Nikola Tesla became a scientist, Karl Saghan became an astronomical scientist, Nels Heinrich – became an inventor of quantum theory, Robert Oppenheimer read the Mahabharata and discovered the atom bomb. And the Indians today who not studying this civilization - are themselves cutting the sitting branch. Until this stupidity stops - your country cannot move forward.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹500 Ex Tax: ₹499

MAHAVAIKRANT STONE 100 gm- महाविक्रान्त पत्थर 100 gm

|| जय चक्रधारी ||महाविक्रान्त पत्थर :-इसे कुवज्र। विक्रांत ,जीर्णवज्रक अदि नामो से भी जाना जाता है।वैक्रान्त अर्थ जो लोहे को विकृत कर दे ,उसे वैक्रान्त कहते है।  अर्थात लोहे पर जिसे रगड़ने से निशान पड़ जाये उसे ही वैक्रान्त कहा गया है।आठवीं शताब्दी के बाद के रसग्रंथो में वैक्रान्त का वर्णन है। वैक्रान्त कई रंगो में पाया जाता है। श्वेत, नीला,कबूतर  के रंग जैसा।आजकल लोग अलग अलग तरह के पाषाणखंड को वैक्रान्त कहते है।वैक्रान्त के गुण एवं लाभ :-यह आयुष , बुद्धिवर्धक,सभी रोगो को नष्ट करने वाला,पाचन ,रसायन ,हिरा भसम जैसा गुणवान, समस्त दोषो को शमन करने वाला।साथ ही में यह पाण्डु,उदर,और जरा नाशक है।यह आपके सौंदर्य में भी सहायता करता है।  शुक्र,शनि,राहु और केतु की सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ता है। भुत,प्रेत,तंत्र,मंत्र,वशीकरण एवं नकारात्मक ऊर्जा से रक्षार्थ घर के कोने में रखने से ये समस्त लाभ देता है। MAHAVAIKRANT STONE-IT IS CALLED AS KUVAJRA. VIKRANT IS ALSO KNOWN BY THE NAME JIRNVAJRAK ETC. VAIKRANT MEANS STONE WHICH DEFORMS IRON, IS CALLED VAIKRANT.SO THE VAIKRANT IS THAT STONE BY WHICH WHEN IRON IS RUBBED BY VAIKRANT IRON GET MARKS OVER IT. VAKRANTA IS DESCRIBED IN THE RAS-GRANTH OF THE LATER EIGHTH CENTURY. VAIKRANTA IS FOUND IN MANY COLORS WHITE, BLUE, AS PIGEON COLOR.NOWADAYS PEOPLE CALL DIFFERENT TYPES OF STONE BLOCKS AS VAIKRANT.PROPERTIES AND BENEFITS OF VAIKRANTA: - THIS GIVES HEALTH, INTELLIGENCY, DESTROYER OF ALL DISEASES, HELPS IN DIGESTION,IT IS COMPARED NEARLY LIKE DIAMOND BHASMA, EXTINGUISHES ALL DEFECTS. IT ALSO HELPS IN ABDOMINAL DISEASE.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹700 Ex Tax: ₹698

Showing 1 to 3 of 3 (1 Pages)