Shopping Cart
Whats app Us Now
Free: +91-9887917255

TRIANGULAR RED CORAL - त्रिकोण लाल मूंगा रत्न

4.37 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,822 Ex Tax: ₹4,810

4.57 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,942 Ex Tax: ₹4,930

4.60 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,960 Ex Tax: ₹4,948

4.60 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,960 Ex Tax: ₹4,948

4.61 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,966 Ex Tax: ₹4,954

4.61 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,966 Ex Tax: ₹4,954

4.66 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹4,935 Ex Tax: ₹4,923

4.70 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है।मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।CORAL :-Coral is a type of vegetation found in the sea. In ancient times what was called Latamani is coral. Coral is considered a gem of Mars. It is believed that it can be worn to remove Mars defects and for the auspiciousness of Mars. But not everyone should wear it.At present, there is increasing demand for different types of gems, due to which some people have started the business of selling fake gems for their profit, in such a situation, even scholars sometimes miss the identity of genuine and fake. That is why it is very important for the gemstone to be pure. Pure coral can be identified in this way.Coral gem is very smooth. There is no water on it, so one way can be that after taking the gem and pour a few drops of water on the coral, if the water stays on it, then it is fake, if the water does not stay then the coral can be right.according to the horoscope of a person, if he is suffering from Mangal Dosh i.e. Manglik, then he has to face many difficulties in his life along with marriage, married life. But where there is a problem, there is definitely some solution to it.|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹5,020 Ex Tax: ₹5,007

4.71 carats - TRIANGULAR CORAL WITH COPPER RING- त्रिकोण मूंगा रत्न

|| जय चक्रधारी ||मूंगा :-मूंगा समुद्र में पाई जाने वाली एक प्रकार की वनस्पति है जिसे अंग्रेजी में कोरल कहा जाता है। प्राचीन काल में जिसे लतामणि कहा जाता था वह मूंगा ही है। मूंगा मंगल ग्रह का रत्न माना जाता है। मान्यता है कि मंगल दोष दूर करने व मंगल की शुभता के लिये इसे धारण किया जा सकता है। लेकिन हर किसी को इसे धारण नहीं करना चाहिये।वर्तमान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की मांग बढ़ रही है जिसके कारण कुछ लोग अपने मुनाफे के लिये नकली रत्न बेचने का धंधा भी करने लगे हैं ऐसे में कई बार तो विद्वान भी असली-नकली की पहचान में चूक कर जाते हैं। इसलिये रत्न का शुद्ध होना बहुत आवश्यक है। शुद्ध मूंगे की पहचान कुछ इस तरह से की जा सकती है।मूंगा रत्न बहुत ही चिकना होता है। इस पर पानी नहीं ठहरता इसलिये एक तरीका तो यह हो सकता है कि रत्न लेकर उप पर पानी की कुछ बूंदे डालें यदि पानी इस पर ठहरता है तो समझिये यह नकली है यदि पानी नहीं ठहरता तो मूंगा सही हो सकता है। मंगल का अर्थ तो कल्याणकारी होता है इसमें इक प्रत्य के इस्तेमाल से बने शब्द मांगलिक का अर्थ भी शुभ ही होता है लेकिन जब यह शब्द मंगल ग्रह के संदर्भ में जुड़ जाते हैं तो इनका एक अर्थ नकारात्मक भी हो जाता है। यानि किसी जातक की कुंडली के अनुसार यदि वह मंगल दोष से पीड़ित हो यानि मांगलिक हो तो उसे जीवन में विवाह, दांपत्य जीवन के साथ-साथ और भी बहुत सारी कठिनाइयों को झेलना पड़ता है। लेकिन जहां समस्या होती है वहीं उसका कुछ न कुछ समाधान बी अवश्य होता है।|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || ..

₹5,026 Ex Tax: ₹5,013

Showing 1 to 9 of 21 (3 Pages)