Shopping Cart
Whats app Us Now
Free: +91-9887917255

KANSA THALI- काँसा थाली

KANSA THALI- काँसा थाली

  • Brand:: CHAKRADHARI
  • Product Code: PLAIN
  • SKU: KTH
  • Availability: In Stock
  • ₹3,500

  • Ex Tax: ₹3,125

|| जय चक्रधारी || 

काँसा थाली:- 

आइये बात करते हैं, एक और अनसुलझे पहलु पर | 

"धातु - कांसा " 

समाज में आज हर घर में जगह बनाली है, स्टील और एल्युमीनियम के बर्तनो ने - लोग अपनी संस्कृति के प्रति इतने लापरवाह हो चुके हैं, के हर भारत की वैज्ञानिक वस्तु को अपनी दृष्टि से ओझल कर देते हैं |

 एल्युमीनियम और स्टील रोगो का भण्डार है, ना जाने नव युग यह कब समझेगा |

 जिस घर में जाओ, वह स्टील या एल्युमीनियम से या हड्डियों के चूरे से बने चाय के कपो से स्वागत कर लोग इठलाते हैं, के उनकी तारीफ करो के आप कितना अच्छा काम कर रहे हैं |

 उनको बोल दें - के यह नकली बर्तन फेंक दो - तो किसी भी व्यक्ति को मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है | 

कांसा - एक योग है, जिसमे वंग और ताम्र का संयोग करवाया जाता है | 

जिसका अनुपात ही वस्तुओ की योग्यता बदल देता हैं - जैसे - बर्तन हेतु - १:९ का अनुपात, घुँघरू हेतु १:३ का अनुपात, बन्दूक की गोली हेतु - १००:१०:२ ताम्र,वंग,नाग | 

खैर मूल बात हमारी है आज की - भोजन यदि कांसी में रख परोसा जाए, जो भोजन की योग्यता समाप्त नहीं होती, साथ ही उन उर्जाओ का संचार भोजन के माध्यम से होता है जिससे - नेत्र रोग में आराम मिले, कृमि रोग में आराम मिले, यहाँ तक की चर्म रोग में भी लाभदायक है | 

अब भारत का विज्ञान इतना तीव्र सटीक है - के भोजन के पात्र कैसे हो, इनपर भी मानव कल्याण देखता है | 

इससे बढ़कर सूक्ष्मता क्या हो सकती भला ?

 भोजन बनाने का भी एक पूरा विधान है - आयुर्वेद भोजन बनाने हेतु - मिट्टी और कलाई किये हुए पीतल पात्रो पर ही बल देता है | 

कांसे के बर्तनो का महत्त्व इतना प्रबल है - के यदि बेटी के दहेज़ में - कांसे का बर्तन भेंट में न दिए जाए तो दहेज़ अधूरा ही माना जाता है |

 आज बाजार में जो कारीगर हैं - जो बनाते हैं, उनसे एक ही प्रार्थना है - के लोगों को मिलावटी सामन न देकर शुद्ध चीज़ उपलब्ध करवाओ ताकि भारत का कल्याण हो सके | 

क्युकी नकली कांसा - सीसे और ताम्बे के योग से बना दिया जाता है, जिसकी पहचान आम आदमी नहीं कर पाता | 

इस बेईमानी के कारण यहाँ का नागरिक, जानकारी न होने के कारण, समझने लगता है के गड़बड़ बेचने वाले में नहीं बल्कि - भारतीय अध्यात्म में है | बस यही हमारी कमी है |

 जिस दिन इस गड्ढे को पाट दिया जायेगा, यहाँ के हर नागरिक का आनंद और ऊँचा होगा |

Bronze Thali:-

Let's talk about another unsolved aspect.

"Metal - Bronze"

Today steel and aluminum utensils made a place in every house - people have become so careless about their culture, that every Indian ignores practices performed and things used by our ancestor.


Aluminum and steel are a storehouse of diseases, Don’t know when will the new age people will know.

 All the house we visit have steel or aluminum or tea cups made of shredded bones and people praise it, praising them how well they are doing.

 If we tell them to throw away these fake utensils - then any person can face trouble.

Kansa - There is a yog, in which vang and copper are combined.


The ratio of which changes the ability of kansa - such as - for utensils - a ratio of 1: 4, a ratio of 1: 3 for Ghughru, for a gun shot - 100: 10: 2, copper, wang, naag. Well, the basic thing is if food is served in Kansa, which does help the digestive system, as well as the flow of those energy is increased in food, which - helps in eye disease, worms disease, Even beneficial for skin diseases.

Now the science of  ancient Indians is so accurate - how can utensils be eligible for food, but also sees human welfare.

What can be more subtle than this?

 There is also a complete legislation to make food - Ayurveda emphasizes on the clay and coated brass vessels to make food.

The importance of bronze utensils is so strong - that if a bronze pot is not presented in the daughter's dowry, then the dowry is considered incomplete.


Today, there is only one prayer from the artisans who are in the market - they provide adulterated salmon so please provide pure things to the people for the welfare of India. Because fake bronze is made from the sum of lead and copper, which the common man cannot identify. Due to this dishonesty, the citizens here, due to lack of information, understand that the fault is not in the seller but in Indian spirituality. This is our only shortcoming.  The day this pit will be filled, the enjoyment of every citizen of this place will be higher.

|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे || 


Product Speciication
Weight 850 gm

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good