Shopping Cart
Whats app Us Now
Free: +91-9887917255

Koudi - कौड़ियां

Koudi - कौड़ियां

Gomti Chakra Medium - 11 pc set गोमती चक्र मध्यम - 11 नग

|| जय चक्रधारी ||मध्यम आकर के गोमती चक्र सामान्यतः पूजा अनुष्ठान में प्रयोग लिये जाते हैं, साथ ही उपायों में भी काम में लिये जा सकते हैं | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹401 Ex Tax: ₹382

Yellow Lakshmi Koudi - पीली लक्ष्मी कौड़ी set of 21

|| जय चक्रधारी ||पीली कौड़ियां बहुत ही पवित्र मानी गयीं है, विशेष रूप से उस स्थान पर जहाँ माँ लक्ष्मी सम्बंधित ऊर्जाओं को आमंत्रित करना हो | इनकी तुलना गौतम बुद्ध के घुँघरालु केश और शिव की जटाओं से भी की जाती है | जिस कारण यदि छोटे बच्चो क समीप भी रख दी जाये तो उन्हें यह नज़र इत्यादि परेशानियों से बचा लेती हैं | इन्हे लाल रंग की पोटली में डाल कर घर में आयी नयी बहू को भी देने की रीति रही है | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹300 Ex Tax: ₹286

GOMTI CHAKRA BIG - बड़ा गोमती चक्र

..

₹1,300 Ex Tax: ₹1,238

Gomti Chakra Small - 25 pc set गोमती चक्र मध्यम - 25 नग

|| जय चक्रधारी ||छोटे आकर के गोमती चक्र सामान्यतः पूजा अनुष्ठान में प्रयोग लिये जाते हैं, साथ ही उपायों में भी काम में लिये जा सकते हैं | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹421 Ex Tax: ₹401

White Saraswati Koudi - गौरवर्ण सरस्वती कौड़ी set of 21

|| जय चक्रधारी ||पीली कौड़ियां बहुत ही पवित्र मानी गयीं है, विशेष रूप से उस स्थान पर जहाँ माँ लक्ष्मी सम्बंधित ऊर्जाओं को आमंत्रित करना हो | इनकी तुलना गौतम बुद्ध के घुँघरालु केश और शिव की जटाओं से भी की जाती है | जिस कारण यदि छोटे बच्चो क समीप भी रख दी जाये तो उन्हें यह नज़र इत्यादि परेशानियों से बचा लेती हैं | इन्हे लाल रंग की पोटली में डाल कर घर में आयी नयी बहू को भी देने की रीति रही है | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹300 Ex Tax: ₹286

Black/Brown Mahakali Koudi - महाकाली कौड़ी set of 21

|| जय चक्रधारी ||यह कौड़ियां सर्वाधिक ताकतवर होती हैं क्युकी - पूर्णिमा की रात को जब - चंद्र की किरणें पड़ती हैं - तो ज्वार उठने के कारण एक सर्वाधिक हलचल इन्ही कौड़ियों में होती है, जिस कारण इनमें ऐसी ऊर्जाओं का संचार हो जाता है जो तंत्र मंत्र वशीकरण काला जादू इत्यादि से बचाने में बेहद सक्षम हो जाती हैं | इनमें महाकालिका का निवास होता है - नवरात्र में इनका महत्त्व और भी बढ़ जाता है | हर तरह की अला बला से बचाने में बेहद कारगर हैं यह कौड़ियां | ये भैरव उपासने में भी बहुत कारगर हैं | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹650 Ex Tax: ₹619

BIg Mahakali Koudi - विशाल महाकाली कौड़ी

|| जय चक्रधारी ||यह काली कौड़ी का बड़ा स्वरुप है जो छोटी कौड़ियों के समान ही कारगर है |किन्तु इसमें विशेष यह है - के इसकी कार्य क्षमा अधिक दूरी तक बानी रहती है | अर्थात जहाँ छोटी कौड़ी - 50 फुट के दायरे में कार्य करती है, वहीं यह 150 फुट में कारगर है |यह कौड़ियां सर्वाधिक ताकतवर होती हैं क्युकी - पूर्णिमा की रात को जब - चंद्र की किरणें पड़ती हैं - तो ज्वार उठने के कारण एक सर्वाधिक हलचल इन्ही कौड़ियों में होती है, जिस कारण इनमें ऐसी ऊर्जाओं का संचार हो जाता है जो तंत्र मंत्र वशीकरण काला जादू इत्यादि से बचाने में बेहद सक्षम हो जाती हैं | इनमें महाकालिका का निवास होता है - नवरात्र में इनका महत्त्व और भी बढ़ जाता है | हर तरह की अला बला से बचाने में बेहद कारगर हैं यह कौड़ियां | ये भैरव उपासने में भी बहुत कारगर हैं | || ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||..

₹301 Ex Tax: ₹287

Showing 1 to 8 of 8 (1 Pages)

|| जय चक्रधारी ||


किसी काल में कौड़ियां - मुद्रा के रूप से प्रचलन में थी, इससे सीढ़ी स्पष्टता आती है के कौड़ी लक्ष्मी का स्वरुप रही हैं | आप सोचिये - के मुद्रण व सञ्चालन हेतु क्यों कौड़ियों का ही प्रयोग किया गया ? दिखती सी बात है - इनमे नारायणी ऊर्जा है - जो सकारात्मकता होने के साथ-साथ निश्चित रूप से देश को भी आर्थिक रूप से सक्षमता देने हेतु अग्रसर हो सकती है |


कौड़ियों का महत्त्व पूजन में तो है ही, इसके अलावा इनके गहने भी धारण करने का प्रचलन रहा है - कारण स्पष्ट है - चाहे भारतीय सभ्यता हो या अंग्रेजी सभ्यता बल्कि अफ्रीकन व ईजिप्टियन सभ्यता में भी इसका अत्यदिक महत्त्व रहा है क्युकी यह सब तरह के सुख देने में सक्षम है |


कौड़ियां माँ लक्ष्मी, माँ सरस्वती एवं माँ कालिका - तीनों को ही प्रिय है | शक्ति उपासना में अत्यंत कारगर है , घर में सब सुख समृद्धियाँ लाने में सक्षम हैं | जहाँ सफ़ेद कौड़ियां - बौद्धिक क्षमता देने में कारगर है वही पीली लक्ष्मी आकर्षण में, और काली कौड़ियां - तंत्र के समस्त नकारात्मक प्रभाव से बचाने में सक्षम है |


कौड़ियों के भस्म भी आयुर्वेदानुसार तैयार की जाती है जो विभिन्न रोगों को शांत करने में कारगर है |

इसे संस्कृत में - कपर्दक नाम से जाना जाता है | यह यकृत के रोगों को सही करती है , प्लीहा व अमाशय के रोगों पर भी अत्यंत कारगर है |


समुद्र मंथन से प्रकट हुए - गोमती चक्र - साक्षात नारायण का स्वरुप माना गया है | नारायण जो समस्त संसार का पालन पोषण करते हैं, उनका यह साक्षात स्वरुप आपके जीवन में आये हर कष्ट को युक्ति पूर्वक रस्ते से ले जाने का मार्ग देता है | संभवतः यह एक ऐसी स्वयं प्रकृति सिद्ध वस्तु है - जो लगभग दैनिक जीवन में हर स्थान पर कारगर सिद्ध होती है | पूर्ण जानकारी हेतु आप निम्न वीडियो देख सकते हैं |


|| ॐ का झंडा ऊँचा रहे ||